Stock Market Basics in Hindi

भारत के शेयर बाज़ार में निवेश करने हेतु पहले कदम

इससे पहले हम इस बारे में चर्चा करें की किस प्रकार से निवेश करना चाहिए, ट्रेडिंग करनी चाहिए या शेयर बाज़ार में निवेश करने हेतु सबसे पहले चरण में क्या होना चाहिए, चलिए एक कथन को समझें – शेयर बाज़ार में निवेश करना एक रिश्ते के निर्माण की तरह है | आपको हमेशा इसमें उत्सुकता और तत्परता के साथ अपनी रूचि बनाए रखनी पड़ेगी, इसके बारे में जितना हो पाए उतना समझना पड़ेगा और इसे मान देते हुए सदा अपना सर ऊचा करके चलना पड़ेगा ! आप शुरू में इसे लेकर बहुत उत्साहित रहेंगे लेकिन इसे हमेशा आपके अटल रहने की, समझ की और विवेक की ज़रुरत पड़ेगी | यह सब ज़रूरतें बिलकुल किसी और रिश्ते की ज़रूरतों की तरह ही हैं |

Read this Review in English here

ठीक है न ?

अब क्यूंकि हमे इसकी नीव का निर्माण करना है, हमे निवेश और ट्रेडिंग के पहले चरणों के बारे में विचार और गहन करना होगा और समझना होगा की शेयर बाज़ार के अपने पूरे सफ़र के दौरान, वो कौन से महत्वपूर्ण पहलू हैं जिनके बारे में आपको ध्यान रखना होगा |

पहला कदम – एक पैन कार्ड बनवाएँ

शेयर बाज़ार की आपकी यात्रा की तरफ सबसे पहला और ज़रूरी कदम, एक पैन कार्ड की आवश्यकता है और आज से पहले भारत में एक पैन कार्ड बनवाना कभी इतना आसन नहीं था | आपको केवल यह करना है :

  • एनएसडीएल की वेबसाइट पर जाकर अपनी जानकारी उपलब्ध कराएं और अपना पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन करवाएं
  • इन ज़रूरी दस्तावेज़ों को सुव्यवस्थित करें:
    • पहचान पत्र या आइडेंटिटी प्रूफ
    • निवास का प्रमाण या एड्रेस प्रूफ
    • जन्म तिथि का प्रमाण या डेट ऑफ़ बर्थ प्रूफ
    • दो हाल मे खिची हुई फोटोग्राफ्स
  • इन दस्तावेज़ों को इनकम टैक्स के पैन सर्विस कार्यालय में भेज दें |
  • जैसे ही आपके आवेदन पर आवश्यक कार्यवाही पूरी हो जाएगी आपका पैन कार्ड आपके घर के पते पर भेज दिया जाएगा

बस इतना ही करना है | जैसे ही आपका पैन कार्ड बन जाता है आप डीमेट खाता खोलने के योग्य हैं लेकिन उससे पहले आपको एक शेयर दलाल का चयन करना होगा |

दूसरा कदम – एक स्टॉक ब्रोकर का चयन करना

एक ऐसा शेयर दलाल चुनने के लिए, जो की बाद में आपको शेयर बाज़ार में ट्रेड करने में सहायता कर सके , आपको पहले यह समझना होगा की भारतीय शेयर बाज़ार किस तरह से काम करते हैं | मूल रूप से दो प्रकार के स्टॉक ब्रोकर होते हैं – पूर्णता सेवा क्षेत्र में कार्यरत फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर और सस्ती दलाली वाले डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर | इससे पहले की आप ट्रेडिंग और निवेश के लिए एक स्टॉक ब्रोकर का चयन करें, कई ऐसे महत्वपूर्ण पहलू हैं जिन्हें की आपको ध्यान में रखना होगा | इसमें निम्न भाव शामिल हैं :

  • दलाली शुल्क या ब्रोकरेज चार्जेज़
  • व्यापार मंच या ट्रेडिंग प्लेटफार्म
  • ग्राहक सेवा
  • भौगोलिक पहुच
  • मार्केट रिसर्च और सुझाव
  • ट्रेडिंग मार्जिन सीमाएं
  • ट्रेडिंग क्षेत्रों या सेग्मेंट्स की उपलब्धता की सीमा
  • स्टॉक ब्रोकर का आचरण, इतिहास एवं भरोसे सम्बंधित फैक्टर

साथ ही साथ आपको यह भी निश्चित करना होगा की आप एक ट्रेडर बन के रहेंगे या लम्बे समय के लिए एक निवेशक.

एक बार जब आप अपने स्टॉक ब्रोकर के चयन को लेकर निश्चित हो जाएँ और उसको संग जुड़ने को तैयार हो जाएँ तो आपका अगला कदम एक डीमेट खाता खोलना होना चाहिए |

यदि आप एक शेयर ब्रोकर के चयन में सहायता चाहते हैं तो अपनी जानकारी यहाँ उपलब्ध करा दें | हम आपको निशुल्क कॉल की सेवा से सहायता उपलब्ध कराएँगे |

तीसरा कदम – डीमेट खाता खोलने के लिए आवेदन देना

जब आपने अपने लिए खुद की पसंद का शेयर ब्रोकर चुन लिया हो तो खुद को शाबाशी दीजिये क्यूंकि यह इस पूरी यात्रा का एक नाज़ुक पहलू है | अब आपको सिर्फ अपनी संपर्क सम्बन्धी जानकारी उपलब्ध करानी है और ज़रूर ही एक मुख्य शेयर ब्रोकर आपको फ़ोन द्वारा संपर्क करेगा | भारत के किसी भी सेबी पंजीकृत शेयर ब्रोकर के साथ डीमेट खाता खोलने के लिए आपको निम्न लिखित दस्तावेज़ों की आवश्यकता पड़ेगी :

  • पैन कार्ड ( पहले चरण का दस्तावेज़ ) एक मान्य फोटोग्राफ के साथ
  • निवास का प्रमाण
  • एक फोटोग्राफ
  • बैंक खाते का विवरण या बैंक स्टेटमेंट
  • रद्द किया हुआ चेक

एनआरआई के लिए, यह अतिरिक्त दस्तावेज़ लगेंगे :

  • पीआईएस अनुमति पत्र या परमिशन लैटर के द्वारा सम्बंधित बैंक के साथ, खाता खोलने के लिए आरबीआई की स्वीकृति का दस्तावेज़
  • पासपोर्ट की कॉपी
  • विदेश में निवास का प्रमाण
  • मान्य वीज़ा की कॉपी

जब आपने एक बार यह सारे दस्तावेज़ अपने शेयर ब्रोकर को दे दिए हैं , तो आम तौर पर डीमेट खाता खुलने में आपको एक से दो कार्य वाले दिन लगेंगे | सौदे करने के लिए आपको अपने ट्रेडिंग खाते में पैसा डालने की भी ज़रुरत पड़ सकती है.

चौथा कदम – पठन करना या समझना शुरू करें

जी हाँ, इससे पहल की आप अपनी पूँजी बाज़ार में लगाएं, आपका यह समझना अत्यन्त ज़रूरी है की आप कहाँ पर अपना निवेश कर रहें हैं | शुरुवात करने के लिए कई एक भरोसे के माध्यम हैं | इनमे से कुछ की सूची नीचे दी गई है :

ट्रेडिंग और निवेश पर किताबें- उदहारण के तौर पर :

आप शेयर माकेट में निवेश हेतु जितना जानना चाहते थे वो सब कुछ उपलब्ध है:

  • ट्रेडिंग जर्नल्स
  • बिज़नस स्टैण्डर्ड
  • वाल स्ट्रीट जर्नल ( भारत में प्रकाशित ),
  • इकनोमिक टाइम्स

विडियो द्वारा शिक्षण या टूटोरीअल

  • यू टयुब
  • सेमिनारज़
  • किसी ट्रेडिंग प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग ले लें अन्यथा कई शेयर ब्रोकिंग कंपनियां

नियमित रूप से इससे सम्बंधित कार्यक्रम कराती हैं | यहाँ पर क्लिक करके अपनी जानकारी उपलब्ध करा दें और हम आपको अधिक जानकारी के साथ संपर्क केर लेंगे

आपको यह समझना होगा की इस कदम को आपको बहुत गंभीरता से लेना होगा | जब तक आपका बुनयादी ज्ञान सही नहीं है तब तक इस दिशा में आगे बढ़ने का कोई लाभ नहीं है | यदि आप चाहते हैं की ट्रेडिंग में आप अपनी मंजिल तक पहुच पाएं तो आदत डाल लें और नियमित रूप से पठन करें | इसमें कुछ समय ज़रूर लगेगा पर हमारा यकीन मानिये आगे चल कर आपकी नीव मज़बूत हो जाएगी|

पांचवा कदम – नियमित रूप से बाज़ार का अनुसरण करिये

जब आपको बुनियादी विषय समझ आ जाएगा ( जैसे की चौथे कदम में समझाया गया है ) , तब आज की अपेक्षा में बाज़ार की गतिविधि को समझना आपके लिए ज्यादा आसन हो जाएगा | अभी शुरुवात करने के लिए आप यह कर सकते हैं की बीस से तीस मुख्य शेयर की एक सूची तैयार कर लें और उनके व्यवहार और चलन पर ध्यान दें | आपको यह देखना है की आज के मुकाबले, इतिहास में इन शेयरों की चाल कैसी थी अर्थात इनसे हुए लाभ और नुकसान किस प्रकार रहे | ऐसे कई तरीके हैं जिनसे की आप शेयर बाज़ार को समझते हुए चल सकते हैं या ट्रैक कर सकते हैं |

  • ऑनलाइन सहारे या रिसोर्सेज
  • टीवी ( सिर्फ यह देखने के लिए की बाज़ार कैसे काम करता है पर कोई भी निर्णय लेने के लिए इसकी सलाह नहीं दी जाती है | )
  • अखबार ( खाली यह समझने के लिए की चुनिन्दा विषयों पर विशेषज्ञों का क्या कहना है | )
  • शुल्क देकर प्राप्त की हुई ऑनलाइन सेवाएँ या पेड ऑनलाइन सर्विसेज

जब आप एक बार बाज़ार की बारीकियों को और मूल तत्वों को समझने लगेंगे, जैसे की बाज़ार की चाल किस पर और क्यूँ निर्भर होती है , तब आप वास्तविक तौर पर आगे बढ़ पाएँगे | अब वह समय आ गया है जब आप अपने खुद के द्वारा जोड़े हुए ट्रेडिंग ज्ञान को परखें |

छटा कदम – अपनी पहली रणनीति बनाएं

क्यूंकि अब तक आप यह जान चुके होंगे की आप यहाँ ट्रेडिंग करने आएं हैं ( ज्यादा खतरा, ज्यादा लाभ) या निवेश करने ( कम खतरा, ज्यादा समय लेने के उपरांत आमदनी देने वाले शेयर ) – आपकी शयेर चुनने की और अन्य सम्बंधित पहलुओं की रणनीति उसी प्रकार से आपके दिमाग में चलेगी | हो सकता है की आप अपनी पहली रणनीति में थोडा घबराएं हुए हों या आपका आत्म विश्वास कम हो | लेकिन जब तक आप अपनी सोच पर यकीन रखते हैं और अपने हिसाब से निवेश या ट्रेड करने के लिए किये गए पठन पर विश्वस्त हैं, आपको अपने निवेश को बनाए रखना चाहिए | ज्यादा से ज्यादा क्या बुरा हो जाएगा ?

अगर आपके हिसाब से कुछ भी नहीं हुआ तो भी आप निश्चित रूप से बहुत कुछ सीख जाएँगे | और यदि उसी समय बाज़ार में सब कुछ सही चलता रहता है तो आप पैसा भी बना सकते हैं | तो दोनों तरीकों से आप कुछ न कुछ हासिल कर लेंगे | एक चीज़ आपको हमेशा याद रखनी है- कभी भी अपनी भावनाओं को अपने निर्णय के ऊपर हावी नहीं होने देना है | जितना हो सके उतना निष्पक्ष रहने की कोशिश करें |

सातवाँ कदम – हमेशा समझ के आगे चलते रहिये और सीखते रहिये

तो अब जब आपकी पूँजी बाज़ार मे लग चुकी है , तब स्पष्टता आपको अपने शेयर चयन या पोर्टफोलियो के हिसाब से बाज़ार की चाल पर और संभव अवसरों पर नज़र बनाए रखनी है | आपने जिन शेयरों में निवेश किया है उनसे सम्बंधित कोई भी उद्योगिक बदलाव, कॉर्पोरेट या प्रबंधन सम्बंधित बदलाव, बाज़ार में प्रतियोगियों का आना, संभव विदेशी खतरे या अवसरों और अन्य ऐसे बदलावों पर आपको सजग रहना होगा |

जब आप इतना सब कर चुके होंगे तो आप एक मध्यवर्ती स्तर पर पहुँच जाएँगे और अपनी समझ से , आप इन सब के ऊपर जाकर अपने तकनीकी ज्ञान द्वारा शेयर के प्रदर्शन का भी पूर्वानुमान लगा लेंगे | इसी समय , बाज़ार की ऐसी चालें जिनसे शायद कोई अंतर पड़े या न पड़े, उन्हें लेकर आपको ज्यादा चिंता करने की ज़रुरत नहीं है | एक बार फिर से यही बात याद रखें की आपको अपनी भावनाओं को सब कुछ के ऊपर नहीं रखना है |

शेयर बाज़ार में होने वाली गलतियों को टालना :

  • बिना किसी योजना या जांच के ट्रेड करना
  • मीडिया पर – टीवी, अख़बार, इत्यादि की ख़बरों पर ज्यादा ध्यान देना
  • सारा निवेश एक ही शेयर या उद्योग , इत्यादि में करना – हमेशा अपने खतरों को कम करने के लिए विस्तृत निवेश करें |
  • शेयर बाज़ार ट्रेडिंग के लिए पैसा उधार लेना- ऐसा कभी न करें |
  • अफवाहों पर ध्यान देना
  • चौथे चरण पर लिखे निर्देश को भूलना

अंत में हम आपको ट्रेडिंग की दुनिया में अपार सफलता और उज्जवल भविष्य पाने के लिए शुभकामनाएँ देते हैं |

अगर आप स्टॉक ब्रोकर के साथ खाता खुलवाना चाहते हैं या सिफ्ट बात करना चाहते हैं, तो अपनी बारे में यहाँ बतायें:

Open Free Demat Account
Enter basic details here and a Callback will be arranged for You!
Summary
Date
Broker Name
Stock Market Basics in Hindi
Overall Rating
51star1star1star1star1star

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 − 1 =